Monday, January 30, 2023
spot_imgspot_img

ग्वादर में चीन बना रहा इंटरनेशल एयरपोर्ट, सितंबर 2023 तक हो जाएगा तैयार

बीजिंग। चीन द्वारा पाकिस्तान के बलोचिस्तान प्रदेश के ग्वादर में बनाए जा रहे इंटरनेशनल एयरपोर्ट का काम 15 सितंबर 2023 तक पूरा होने की संभावना है। न्यू ग्वादर इंटरनेशनल एयरपोर्ट चीन की रणनीति के हिसाब से बेहद अहम है। ग्वादर एयरपोर्ट प्रोजेक्ट को चीन-पाकिस्तान इकॉनमिक कॉरिडोर के तहत बनाया जा रहा है।

1800 करोड़ की लागत से बन रहा एयरपोर्ट
2019 में शुरू किए गए इस प्रोजेक्ट पर 1800 करोड़ रुपये खर्च होने हैं। यह प्रोजेक्ट पूरी तरह से चीनी सरकार द्वारा फंड किया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक 18 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को कवर करते हुए बन रहा ग्वादर एयरपोर्ट पाकिस्तान का दूसरा सबसे बड़ा हवाई अड्डा होगा। एयरपोर्ट पर दो रनवे बनाए जा रहे हैं। अब तक प्रोजेक्ट का 40 फीसद से अधिक काम पूरा किया जा चुका है और टर्मिनल आकार ले रहा है।

इमरान खान ने रखी थी एयरपोर्ट की आधारशिला
पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान ने 29 मार्च 2019 को न्यू ग्वादर इंटरनेशल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट की आधारशिला रखी थी। नए एयरपोर्ट में मॉडर्न टर्मिनल के साथ ही एक कार्गो टर्मिनल भी होगा जिसकी शुरुआती क्षमता 30 हजार टन सालाना होगी। ग्वादर एयरपोर्ट एयरबस ्र380 और बोइंग 747-8 जैसे वाइड बॉडी एयरक्राफ्ट को भी आसानी से संभालेगा। न्यू ग्वादर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के कंस्ट्रक्शन का काम चाइना कम्युनिकेशंस कंस्ट्रक्शन कंपनी कर रही है और इसके सितंबर 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है।

ग्वादर में चीनी प्रोजेक्ट्स को किया जा रहा टारगेट
ग्वादर बलोचिस्तान की आजादी की मांग कर रहे लड़ाकों के लिए केंद्र रहा है। पिछले कुछ सालों में क्षेत्र में बढ़ी चीनी गतिवधियों के कारण चीन से जुड़े प्रोजेक्ट्स और चीनी कर्मचारियों को आतंकी गुटों द्वारा निशाना बनाया गया है। हाल ही में पाक के पीएम शहबाज शरीफ ने ग्वादर के लोगों से बलोचिस्तान के विकास के लिए निवेश कर रहे विदेशी निवेशकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की अपील की है।

- Advertisement -spot_img

Latest Articles